Breaking News
Home / top / स्मृति ईरानी के खिलाफ कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया

स्मृति ईरानी के खिलाफ कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया

नयी दिल्ली. कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने बलात्कार मामलों को लेकर राहुल गांधी की टिप्पणी के संबंध में 13 दिसंबर को सदन को ‘गुमराह’ करने के लिये केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है. सूत्रों ने बताया कि टैगोर ने लोकसभा महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव से मुलाकात की और केंद्रीय मंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया. टैगोर ने कहा कि लोकसभा महासचिव को नोटिस प्राप्त हो गया है और हम इस मामले को आगे ले जायेंगे. याचिका में कहा गया है, ‘‘ लोकसभा में कामकाज और प्रक्रिया के नियमों की नियम संख्या 222 के तहत मैं कपड़ा तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के लोकसभा में 13 दिसंबर 2019 को सदन में हस्तक्षेप करते हुए दिये गए बयान के लिये विशेषाधिकार हनन का नोटिस दे रहा हूं.’’

उन्होंने कहा कि सदन में मंत्री द्वारा कही गई बातें ‘पूरी तरह से गलत’ थीं. उन्होंने जानबूझकर न केवल सदन के सदस्यों को बल्कि पूरे देश को गुमराह किया है. उन्होंने कहा, ‘‘ मंत्री ने दावा किया कि राहुल गांधी ने 12 दिसंबर को एक चुनावी रैली में अपने भाषण में भारत की महिलाओं से बलात्कार करने का आह्वान किया. मंत्री ने जानबूझकर और इरादतन संसद को गुमराह करने के लिये राहुल गांधी के बयान को गलत तरीके से उद्धृत किया.’’

तमिलनाडु के विरुदुनगर का प्रतिनिधित्व करने वाले कांग्रेस सांसद ने दावा किया कि विपक्ष के एक जिम्मेदार नेता के रूप में वे :राहुल: देश में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के बढ़ते मामलों और सरकार द्वारा इन्हें रोकने में विफल रहने की ओर इशारा कर रहे थे.

कांग्रेस नेता ने कहा कि सदन को गुमराह करते हुए माननीय मंत्री ने कहा कि पहली बार किसी नेता ने इस तरह का बयान दिया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2014 से पहले अपनी चुनावी सभा में दिल्ली को ‘रेप कैपिटल’ बता चुके हैं. टैगोर ने इसके साथ ही 12 दिसंबर के राहुल गांधी के भाषण और साल 2014 में नरेन्द्र मोदी के भाषण की क्लिप भी संलग्न की.

उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने आदरपूर्वक तथ्य रखे हैं और इस संबंध में नोटिस स्वीकार की जाए तथा इस मामले को विशेषाधिकार संबंधी समिति को भेजा जाए ताकि कपड़ा तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ सदन को गुमराह करने के मामले में प्रक्रिया शुरू की जा सके.’’

About admin