Breaking News
Home / top / नागरिकता कानून का विरोध करते हुए जाने-माने व्यंगकार मुजतबा हुसैन का पद्मश्री सम्मान लौटाने का एलान

नागरिकता कानून का विरोध करते हुए जाने-माने व्यंगकार मुजतबा हुसैन का पद्मश्री सम्मान लौटाने का एलान

नई दिल्लीः उर्दू लेखक, हास्य और व्यंग्यकार पद्म पुरस्कार से सम्मानित मुजतबा हुसैन ने घोषणा की है कि वह अपना पुरस्कार सरकार को लौटा देंगे. उन्होंने कहा कि देश की मौजूदा हालत को देखते हुए उन्होंने यह फैसला लिया है. उन्होंने नागरिकता कानून को लोकतंत्र के लिए हमला बताया. मुजतबा हुसैन को साल 2007 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था.

मुजतबा हुसैन ने कहा, ”देश में अशांति, भय और नफरत की जो आग भड़काई जा रही है, वह वास्तव में परेशान करने वाली है. जिस लोकतंत्र के लिए हमने इतना दर्द झेला और जिस तरह से इसे बर्बाद किया जा रहा है कि वह निंदनीय है. इन परिस्थितियों में मैं किसी सरकारी पुरस्कार को अपने अधिकार में नहीं रखना चाहता.”

नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर हुसैन ने कहा कि मौदूदा हालत को देखते हुए वह काफी चिंतित हैं. उन्होंने कहा, ”मैं 87 साल का हूं. मैं इस देश के भविष्य को लेकर अधिक चिंतित हूं. मैं इस देश की प्रकृति के बारे में चिंतित हूं जिसे मैं अपने बच्चों और अगली पीढ़ी के लिए छोड़ता हूं.”

About admin