Breaking News
Home / top / संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ महारैली LIVE : कन्हैया कुमार का भाषण, दिल्ली हिंसा के शिकार लोगों के लिए रखा मौन

संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ महारैली LIVE : कन्हैया कुमार का भाषण, दिल्ली हिंसा के शिकार लोगों के लिए रखा मौन

पटना : बिहार की राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में गुरुवार को ‘संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ’ महारैली में भाकपा नेता कन्हैया कुमार समेत कई दिग्गज शामिल हो रहे हैं. CAA, NRC और NPR के विरोध में आयोजित महारैली में केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला गया. महारैली में शामिल नेताओं ने CAA, NRC और NPR को लेकर जहां केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह पर निशाना साधा. वहीं, शाहीनबाग का जिक्र करते हुए CAA, NRC और NPR को स्वीकार नहीं करने की बात कह डाली.

महारैली में कन्हैया कुमार का भाषण :‘संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ महारैली’ में भाकपा नेता कन्हैया कुमार ने मंच संभालते ही केंद्र सरकार पर जोरदार हमला बोला. इसके पहले छोटे से बच्चे से मंच से नारा लगवाया गया. वहीं, लोगों ने राष्ट्रगान भी गाया. जबकि, दिल्ली हिंसा के शिकार लोगों की आत्मा की शांति के लिये दो मिनट का मौन भी रखा. कन्हैया कुमार के पहले कई सामाजिक-राजनीतिक हस्तियों ने भाषण दिया. इस दौरान CAA, NPR और NRC का विरोध करते हुए इसे वापस लेने की मांग की गयी.

हमें तिरंगे के रंग की रक्षा करनी है : महारैली में सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटेकर ने कहा कि अगर दिल्ली की तख्त को धक्का देना है तो उसकी शुरुआत बिहार से करनी होगी. आज गंगा-जमुनी तहजीब पर हमला हो रहा है. यह संकल्प देश की बुनियाद हिलाने का है. हमें आजादी के नये आंदोलन को अंजाम तक पहुंचाना है. महिलाओं का संकल्प अद्भुत होता है. हमें तिरंगा और तिरंगे के रंग की रक्षा करनी है. असम में NRC फेल हो चुका है. वैश्वीकरण की बात करने वाले देश में बुलाये गये श्रमिकों को बाहर का रास्ता दिखा रहे हैं. सवाल पूछा कि आप बिहार की जनता के साथ हैं या बीजेपी के साथ हैं. उन्होंने ‘हिंदू-मुस्लिम सिख ईसाई, आपस में हैं बहन-भाई’ का नारा भी दिया.

हमें बांटकर सत्ता की चाहत : महारैली में पूर्व आईपीएस अधिकारी कन्नन गोपीनाथन ने कहा कि पहले नागरिक सरकार चुनती थी. आज सरकार नागरिकों को चुन रही है. देश में आंदोलन से ही कानून गये हैं. यह कानून भी आंदोलन से ही जायेगा. उन्होंने सवाल पूछा कि यह कैसे साबित होगा कि शरणार्थी पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से ही आये हैं. इसके जवाब में अधिकारियों का कहना है कि इस पर उन्होंने सोचा ही नहीं है. जिस दिन केंद्र की सरकार गिरेगी, उस दिन कानून भी चला जायेगा.

देश के लिये लंबी लड़ाई की जरुरत : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने कहा कि यह लोग हमें बांटकर सत्ता चाहते हैं. हम आजादी की दूसरी जंग लड़ रहे हैं. एक दिन की लड़ाई में हम जंग नहीं जीत सकते हैं. देश के लिए लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी. आज हम प्रदर्शन करते हैं, धरना देते हैं तो घर लौटने का यकीन नहीं होता है. आज कोई मरता है तो पूछते हैं कि कौन मरा है? हिन्दू या मुसलमान? कहां गई हमारी इंसानियत? बापू के अहिंसा के देश में गोली मारने का आदेश दे दिया गया. बापू को भी सीने में गोली मारी गयी थी.

देश में फिर से बंटवारे की साजिश : महारैली में पटना यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष मनीष भी शामिल हुए. उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज देश में फिर से बंटवारे की साजिश की जा रही है. राज्य सरकार को सलाह दिया कि अगर बिहार के मुसलमानों के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं तो उन्हें बीजेपी से गठबंधन तोड़ देना चाहिए. सीपीआई के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने कहा कि ‘जन गण मन यात्रा’ के दौरान कन्हैया कुमार पर आठ बार हमला किया गया. रैली को असफल करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी गयी. अब, बिहार में लेफ्ट डेमोक्रेटिक सेकुलर फ्रंट बनाना जरूरी है.

मोदी-शाह की विचारधारा से दिक्कत : गांधी मैदान में आयोजित ‘संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ महारैली’ को संबोधित करते हुए सदफ जफर ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा. सदफ जफर ने कहा कि अमित शाह की बात से सहमत हैं कि मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है. आज उनको डरने की जरूरत है, जो संविधान में यकीन रखते हैं. हमें एक उंगली की ताकत से सत्ता पलट देना है, हमें सोच कर बटन दबाना है. हमें मोदी-शाह से कोई दिक्कत नहीं है, हमें उनकी विचारधारा से दिक्कत है. उन्होंने कहा कि हमारे ऊपर लगने वाली हर धारा हमारे लिए बैज के जैसे हैं.

चंद लोगों के लिए CAA, NRC और NPR : महारैली को संबोधित करते हुए भाकपा के विधायक महबूब आलम ने CAA, NRC और NPR का जिक्र करते हुए बीजेपी को कठघरे में खड़ा किया. आलम ने कहा कि चंद लोगों की शिनाख्त के लिए केंद्र सरकार CAA, NPR और NRC लेकर आयी है. वहीं, कहा कि बिहार में बीजेपी के सीने में कलम लगाकर NRC को पास करवाया. हिटलर ने यहूदियों को निशाना बनाया, आज नरेंद्र मोदी ने NRC के बहाने मुसलमानों को निशाना बनाया है.