Breaking News
Home / top / यस बैंक संकट पर वित्त मंत्री का आश्वासन- किसी भी खाताधारक का पैसा नहीं डूबेगा

यस बैंक संकट पर वित्त मंत्री का आश्वासन- किसी भी खाताधारक का पैसा नहीं डूबेगा

आरबीआई ने निजी क्षेत्र की कंपनी यस बैंक पर जैसे ही 50 हजार की निकासी की सीमा लगाई, उसके ग्राहकों में हड़कंप मच गया। देश के तमाम शहरों में एटीएम के बाहर पैसे निकालने वालों की कतार लग गई। कई शहरों में अफरातफरी का माहौल भी देखने को मिला। शुक्रवार को मुंबई और अहमदाबाद में यस बैंक के ग्राहक काफी परेशान दिखे। वे सुबह-सुबह एटीएम पहुंचे लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी। इस दौरान पैसे निकालने की हड़बड़ी में कई जगहों पर हालात बेकाबू दिखे, जिसके बाद एटीएम के बाहर पुलिस तैनात की गई।

वित्त मंत्री का आश्वासन-सुरक्षित है पैसा
इस बीच, यस बैंक संकट पर केंद्री वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खाताधारकों को भरोसा दिया है कि उनका पैसा डूबने नहीं दिया जाएगा। बैंक के खाताधारकों का पैसा सुरक्षित है। खाताधारकों को नाराज होने की जरूरत नहीं है। वित्त मंत्री ने कहा कि रिजर्व बैंक के अधिकारी समस्या का समाधान निकालने में जुटे हुए हैं।

पिछले कुछ महीनों से हम सभी स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। RBI ने कई कदम उठाए हैं, हालांकि अब तक उन पर कोई कदम नहीं उठाए गए थे। लेकिन अब उन उपायों पर कदम उठाए जा रहे हैं। एटीएम से कैश निकालने की सीमा तय किए जाने पर निर्मला सीतारमण ने कहा कि मैं आपको बता दूं कि स्वास्थ्य, विवाह और अन्य आपातकालीन मुद्दों के लिए अतिरिक्त राशि की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कदम उठाए गए हैं।

यस बैंक मामले को लेकर एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात की और कहा पैनिक करने की जरूरत नहीं है। हम लोग सिस्टम बना रहे हैं। ग्राहकों के जमा किए गए पैसे पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

वोडाफोन के मुखिया ने भी वित्त मंत्री से मुलाकात की लेकिन मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से बात करने से इनकार कर दिया। सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात करेंगे। वे यस बैंक संकट सहित कई मुद्दों पर बात करेंगे।

RBI गवर्नर बोले- बैंक को समय देना होगा
इस बीच आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि हमने 30 दिनों के लिए यह सीमा लगाई है। जल्द ही आरबीआई यस बैंक को संकट से निकालने के लिए तेजी से कार्रवाई होगी। आरबीआई गवर्नर ने कहा, ‘आपको बैंक को समय देना होगा, प्रबंधन द्वारा उठाए जाने वाले आवश्यक कदम को उठाने की कोशिश करनी चाहिए और वे कोशिश करते हैं। जब हमने पाया कि यह काम नहीं कर रहा है तो आरबीआई ने हस्तक्षेप किया है। ‘

About admin