Breaking News
Home / top / केन्द्र सरकार ने किया कोरोना वायरस को राष्ट्रीय आपदा घोषित , मृतकों के परिजनों को सरकार देगी 4-4 लाख रुपए

केन्द्र सरकार ने किया कोरोना वायरस को राष्ट्रीय आपदा घोषित , मृतकों के परिजनों को सरकार देगी 4-4 लाख रुपए

नई दिल्ली।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कोरोना वायरस को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दिया है। सभी राज्य सरकारें अब इससे लड़ने के लिए राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (SDRF) का इस्तेमाल कर सकेंगे। कोरोना से मरने वालों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख मुआवजा देने की घोषणा कर दी है। भारत में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित 85 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक इन 85 संक्रमित मामलों में 10 लोगों का इलाज होने के बाद वे ठीक हैं और अभी 73 लोगों का इलाज चल रहा है। इसके अलावा 2 लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई हैं।दिल्ली में कोरोना वायरस से 68 वर्षीय महिला ने दिल्ली के राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया है। महिला डायबिटीज और हाइपरटेंशन से भी पीड़ित थी। मृतक महिला का बेटा हाल ही में इटली से लौटा था। वह भी गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है। इससे पहले कोरोना वायरस से कर्नाटक में एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया था।

अपडेट…
-कोरोना की वजह से आज पश्चिम बंगाल, गोवा, हिमाचल प्रदेश में सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने की घोषणा हुई है। सभी 30 मार्च के बाद ही खुलेंगे।

-कोरोना वायरस के चलते मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने सभी क्रिकेट मैचों को स्थगित करने का निर्णय किया है।

-पंजाब के स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग ने बताया है कि कोविड-19 प्रभावित देशों की यात्रा कर चुके 335 यात्रियों की कोई जानकारी नहीं है कि वे कहां हैं, 13 मार्च को 6011 मरीजों की जानकारी मिल पाई है।

-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने बंगलूरू में होने वाली अपनी अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा (एबीबीएस) को स्थगित कर दिया है। आरएसएस महासचिव भैय्याजी जोशी ने यह जानकारी दी।

कोरोना वायरस के 89 मामलों में से दिल्ली में कोरोना वायरस के 6, हरियाणा में 17, केरल में 22, राजस्थान में 3 , तेलंगाना में एक , उत्तर प्रदेश में 11 , लद्दाख में 3 , तमिलनाडु में एक , जम्मू-कश्मीर में 2 , पंजाब में एक , कर्नाटक में 7 , आंध्र प्रदेश में एक और महाराष्ट्र में 17 मामले सामने आए हैं। अब देश में केरल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, उडीसा ,छत्तीसगढ, हरियाणा, उत्तराखंड और राजस्थान में स्कूल और कॉलेज की 30 मार्च तक छुट्‌टी कर दी है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि भारत में कोरोना वायरस के मामलों में अब तक इस प्रक्रिया में 4,000 से अधिक ऐसे लोगों की पहचान की गई है, जो कि संक्रमण से ग्रस्त लोगों के संपर्क में आए थे। अब इन लोगों को भी निगरानी में रखा गया है।

अग्रवाल ने कहा बताया कि प्रमुख और छोटे बंदरगाह पर कुल 25,504 यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। इसके अलावा लैंडपोर्ट पर 14 लाख से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग हुई है।

भारत सरकार ने सामुदायिक निगरानी के तहत कम से कम 42,296 यात्रियों की जांच की है, जिनमें से 2,559 लोगों में संक्रमण के लक्षण मिले और 522 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिनमें 17 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं।

इसके अलावा 30 हवाईअड्डों पर कुल 10,876 उड़ानों से कम से कम 11,71,061 यात्रियों की जांच की जा चुकी है। संयुक्त सचिव ने यह भी कहा कि 3,062 यात्रियों और 583 संपर्क में आए लोगों की पहचान की गई।

सरकार ने कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित चीन, ईरान और जापान जैसे देशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने का भी काम किया है।

अग्रवाल ने कहा कि अब तक ईरान से 1,199 नमूनों को एकत्र किया गया है और परीक्षण के लिए भारत लाया गया है।

सरकार ने स्वास्थ्य मंत्रालय के चार डॉक्टरों की एक टीम रोम भेज दी है। टीम के पास भारतीयों के नमूने एकत्र करने के लिए पर्याप्त सामग्री भी उपलब्ध है।