Breaking News
Home / top / निर्भया मामला : कल सुबह 5.30 बजे होगी चारों दोषियों को फांसी, राष्ट्रपति ने दया याचिका पर नहीं किया विचार

निर्भया मामला : कल सुबह 5.30 बजे होगी चारों दोषियों को फांसी, राष्ट्रपति ने दया याचिका पर नहीं किया विचार

नयी दिल्ली : निर्भया के दोषियों को कल सुबह 5.30 बजे फांसी होना तय हो गया है. आज सुप्रीम कोर्ट ने पवन गुप्ता के क्यूरेटिव पिटीशन को खारिज कर दिया, वहीं राष्ट्रपति ने पवन और अक्षय की दोबारा भेजी गयी दया याचिका को तवज्जो नहीं दी. राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका पर विचार नहीं किये जाने के बाद यह तय हो गया है कि निर्भया के चारों दोषियों को कल सुबह फांसी दे दी जायेगी. 2012 के दिल्ली गैंगरेप मामले में दोषी पवन गुप्ता ने खुद को नाबालिग बताते हुए यह पिटीशन दाखिल किया था.

गौरतलब है कि पवन गुप्ता ने इससे पहले भी खुद को नाबालिग बताते हुए कोर्ट के सामने अपील की थी जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था. कोर्ट द्वारा पवन गुप्ता की अपील खारिज किये जाने के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि कोर्ट ने उन्हें कई अवसर दिये थे, जिसका दुरुपयोग उन्होंने फांसी से बचने और टालने में किया. लेकिन कोर्ट उनके इस पैंतरेबाजी को समझ गया है, कल निर्भया को न्याय मिल जायेगा.

ज्ञात हो कि कल यानी 20 मार्च को सुबह दिल्ली के तिहाड़ जेल में निर्भया के चार दोषियों को फांसी दिया जाना है. इसके लिए पवन जल्लाद ने बुधवार को पुतलों को फांसी देकर अभ्यास किया. कल उधर दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक दोषी की एक और याचिका को खारिज कर दिया . जेल अधिकारियों ने बताया कि पवन मंगलवार को मेरठ से राजधानी पहुंचे और उन्होंने रस्सी से पुतलों को फांसी देकर अभ्यास किया. इस रस्सी का इस्तेमाल दोषियों को फांसी के फंदे पर लटकाने के लिए होगा. तिहाड़ जेल के इतिहास में यह पहली बार होगा जब एक ही अपराध के लिए एक ही समय पर चार दोषियों को फांसी दी जाएगी.

पवन अपने परिवार में तीसरे पीढ़ी के जल्लाद हैं.उन्होंने पहले कहा था कि उनके दादा ने सतवंत सिंह और केहर सिंह को फांसी पर लटकाया था.इन दोनों को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के संबंध में फांसी दी गई थी.इसके अलावा उनके दादा ने कुख्यात अपराधी रंगा और बिल्ला को भी फांसी दी थी.पांच मार्च को एक निचली अदालत ने मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को फांसी देने के लिए नया मृत्यु वारंट जारी किया था.चारों दोषियों को 20 मार्च को सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दी जाएगी.अदालत ने मृत्यु वारेंट को तीन बार इस आधार पर टाल दिया गया था कि दोषियों के सभी कानूनी उपचार समाप्त नहीं हुए हैं और एक या अन्य दोषियों की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है.

About admin