Breaking News
Home / top / सुविधा : ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब नहीं काटने पड़ेंगे विभागों के चक्कर, ये नई व्यवस्था हुई शुरू

सुविधा : ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब नहीं काटने पड़ेंगे विभागों के चक्कर, ये नई व्यवस्था हुई शुरू

ड्राइविंग लाइसेंस (Diving Licence) वापस लौट जाने पर आवेदक को अब विभागों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। पते में गड़बड़ी होने पर लखनऊ लौट कर जाने वाला ड्राइविंग लाइसेंस पहले आरटीओ कार्यालय ( RTO Office) आएगा। इसके साथ ही आवेदक के फोन में मैसज आ जाएगा, जिससे आसानी से उनको डीएल मिल सकेगा।

परिवहन विभाग (Transport Department) की ओर से पक्के ड्राइविंग लाइसेंस आवेदन के बाद उनके विवरण को लखनऊ भेजा जाता है। इसके बाद ड्राइविंग लाइसेंस कार्ड प्रिंट होकर लखनऊ मुख्यालय से ही सीधा आवेदक के घर पर पार्शल के माध्यम से आते हैं। लोगों के ऑनलाइन आवेदन के दौरान पते में गड़बड़ी होने के कारण उनके घरों पर डीएल कार्ड नहीं पहुंचता और आवेदक को दो-तीन माह तक डीएल नहीं मिल पाता। पता नहीं मिलने पर डाक विभाग द्वारा डीएल कार्ड को वापस लखनऊ भेज दिया जाता है। ऐसे में लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। डीएल के लिए आवेदक आरटीओ कार्यालय और डाक विभाग के चक्कर काटने पड़ते हैं। कार्ड नहीं मिलने पर आवेदकों ने आरटीओ पत्र लिखकर डीएल कार्ड की मांग की थी। इसमें संभागीय परिवहन अधिकारी ने मुख्यालय से गाजियाबाद संभाग के पते के वापस जाने वाले डीएल कार्ड की मांग की थी। इसमें परिवहन विभाग ने वापस लौटने वाले डीएल को आरटीओ कार्यालय से लेने के लिए सुविधा शुरू की थी। इसमें आवेदक को केवल अपने निवास प्रमाण पत्र दिखाकर अपना डीएल मिल जाना था।

चार जिलों के आरटीओ कार्यालय से मिलेंगे डीएल : डीबीए प्रवीण त्यागी ने बताया कि गाजियाबाद संभागीय परिवहन विभाग कार्यालय में बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद और हापुड़ जनपद के रुके हुए डीएल मिलेंगे। इसमें डीएल मिलने का समय दोपहर तीन बजे से शाम पांच बजे तक का निर्धारित किया गया है। अभी तक के रुके हुए चारों जनपद के करीब दो हजार ड्राइविंग लाइसेंस कार्यालय पहुंच गए हैं। हर माह मुख्यालय से वापस लौटने वाले डीएल कार्ड गाजियाबाद कार्यालय भेजे जाएंगे।

वापस लौटे डीएल आरटीओ में मिलने की सुविधा के बाद कार्यालय में डीएल लेने के लिए मारामारी शुरू गई। जिन आवेदकों का डीएल लखनऊ से भी नहीं आया था, वह भी कार्यालय पहुंच जाते थे। ऐसे में विभाग की ओर से आवेदक के मोबाइल पर मैसेज भेजने की प्रक्रिया शुरू की गई। जिन आवेदकों के डीएल आरटीओ कार्यालय आएंगे। उनके पंजिकृत नंबर पर मैसेज भेजा जाएगा। इसको दिखाकर आवेदक कार्यालय से अपना डीएल ले सकेंगे। आवेदक के अलावा कोई अन्य व्यक्ति उसका डीएल नहीं ले सकेंगे।

भीड़ देखकर उठाया कदम

वापस लौटे डीएल आरटीओ में मिलने की सुविधा के बाद कार्यालय में डीएल लेने के लिए मारामारी शुरू गई। जिन आवेदकों का डीएल लखनऊ से भी नहीं आया था, वह भी कार्यालय पहुंच जाते थे। ऐसे में विभाग की ओर से आवेदक के मोबाइल पर मैसेज भेजने की प्रक्रिया शुरू की गई। जिन आवेदकों के डीएल आरटीओ कार्यालय आएंगे। उनके पंजिकृत नंबर पर मैसेज भेजा जाएगा। इसको दिखाकर आवेदक कार्यालय से अपना डीएल ले सकेंगे। आवेदक के अलावा कोई अन्य व्यक्ति उसका डीएल नहीं ले सकेंगे।

पते की गड़बड़ी के बाद लखनऊ वापस लौटने वाले ड्राइविंग लाइसेंस कार्ड हर माह कार्यालय पहुंचेंगे। इसके साथ ही आवेदक को मैसेज कर दिया जाएगा। इससे उनको रोजाना चक्कर नहीं काटना पड़ेगा।” -विश्वजीत सिंह, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी प्रशासन

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *